Last Updated 10/23/2020 9:40:00 AM

TOTAL CASES

7706946

ACTIVE CASES

715812

RECOVERED

6874518

DEATHS

116616

  • ANDAMAN & NICOBAR ISLANDS 4168
  • ANDHRA PRADESH 793299
  • ARUNACHAL PRADESH 13912
  • ASSAM 202774
  • BIHAR 208377
  • CHANDIGARH 13795
  • CHATTISGARH 167639
  • DADRA & NAGAR HAVELI 3207
  • DAMAN & DIU 3207
  • DELHI 340436
  • GOA 41339
  • GUJARAT 162823
  • HARYANA 153367
  • HIMACHAL PRADESH 19621
  • JAMMU & KASHMIR 89582
  • JHARKHAND 98061
  • KARNATAKA 782773
  • KERALA 361841
  • MADHYA PRADESH 163296
  • MAHARASHTRA 1617658
  • MANIPUR 16267
  • MEGHALAYA 8621
  • MIZORAM 2341
  • NAGALAND 8139
  • Nepal(*) 47236
  • ORISSA 274181
  • PONDICHERRY 33622
  • PUNJAB 129088
  • RAJASTHAN 178933
  • SIKKIM 3677
  • TAMIL NADU 697116
  • TELANGANA 227580
  • TRIPURA 29925
  • UTTAR PRADESH 461475
  • UTTARAKHAND 59106
  • WEST BENGAL 333126
Breaking News

बिहार चुनाव: राहुल गांधी आज हिसुआ और कहलगांव में चुनावी रैली को करेंगे संबोधित दुबई ने बनाया सबसे बड़े फाउंटेन का वर्ल्ड रिकॉर्ड, 105 मीटर लंबा रहा सुपर शूटर सीरिया के नॉर्थ-वेस्ट में अज्ञात ड्रोन हमले में मारे गए 6 जेहादी नेता- AFP जो बिडेन- कोरोना से 220,000 अमेरिकी लोगों की मौत के बाद ट्रंप चुनाव के लिए अयोग्य मुंबई: नागपाड़ा के सिटी सेंटर मॉल में लगी भयंकर आग, दो दमकलकर्मी घायल कोरोनाः देश में पॉजिटिविटी रेट 7.8, दैनिक आंकड़ा 3.8 फीसदी- स्वास्थ्य मंत्रालय गुजरात के सूरत में BJP नेता पीवीएस शर्मा के घर आयकर विभाग की रेड शेयर बाजार में 215 अंकों की उछाल, 40773 पर पहुंचा सेंसेक्स कोरोनाः एक दिन में 14 लाख से अधिक सैंपल की हुई जांच

Home / बिजनेस

वित्त मंत्री: इकोनॉमी में मांग को बढ़ाने के लिए LTC कैश वाउचर्स स्कीम जैसे कई ऐलान

nationfirst.in

12 Oct 2020 08:39 AM 

केंद्र सरकार ने अर्थव्यवस्था में मांग को बढ़ाने के लिए आज कई महत्वपूर्ण ऐलान किये हैं. मांग को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार उपभोक्ता खर्च और पूंजीगत व्यय बढ़ाने के लिए उपाय कर रही है. सरकार LTC कैश वाउचर्स और फेस्टिवल एडवांस स्कीम लेकर आई है. 

केंद्र सरकार ने अर्थव्यवस्था में मांग को बढ़ाने के लिए कई महत्वपूर्ण ऐलान किये हैं. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि अर्थव्यवस्था में मांग को बढ़ाने के लिए कई कदम उठाये जा रहे हैं. मांग को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार उपभोक्ता खर्च और पूंजीगत व्यय बढ़ाने के लिए उपाय कर रही है. सरकार LTC कैश वाउचर्स और फेस्टिवल एडवांस स्कीम लेकर आई है. 

चार प्रमुख कदम 

सरकार ने इकोनॉमी में मांग बढ़ाने के लिए कुल चार कदम उठाये हैं. 1. सरकारी कर्मचारियों के एलटीसी के बदले कैश वाउचर्स, 2. कर्मचारियों को फेस्टिवल एडवांस देना, 3. राज्य सरकारों को 50 साल तक के लिए बिना ब्याज कर्ज. 4. बजट में तय पूंजीगत व्यय के अलावा केंद्र द्वारा बुनियादी ढांचे के विकास आदि पर 25 हजार करोड़ रुपये अतिरिक्त खर्च करना. 

उन्होंने उम्मीद जताई कि इन सारे कदमों से अर्थव्यवस्था में 31 मार्च 2021 तक करीब 73 हजार करोड़ रुपये की मांग पैदा होगी. उन्होंने कहा कि अगर निजी क्षेत्र ने भी अपने कर्मचारियों को राहत दी तो इकोनॉमी में कुल मांग 1 लाख करोड़ रुपये के पार हो सकता है. 

क्या है एलटीसी योजना 

यात्रा अवकाश भत्ते (LTC) का कैश वाउचर्स स्कीम सरकार लेकर आई है. इसके तहत सरकारी कर्मचारी को नकद वाउचर मिलेगा जिससे वो खर्च कर सकेंगे और इससे अर्थव्यवस्था में भी बढ़त होगी. इसका लाभ पीएसयू और सार्वजनिक बैंकों के कर्मचारियों को भी मिलेगा. 

एलटीसी के बदले नकद भुगतान जो कि डिजिटल होगा. यह 2018-21 के लिए होगा. इसके तहत ट्रेन या प्लेन के किराये का भुगतान होगा और वह टैक्स फ्री होगा. इसके लिए कर्मचारी का किराया और अन्य खर्च तीन गुना होना चाहिए. इसी तरह सामान या सेवाएं जीएसटी रजिस्टर्ड वेंडर से लेना होगा और भुगतान डिजिटल होना चाहिए वित्त मंत्री ने बताया कि इससे केंद्र और राज्य कर्मचारियों के खर्च के द्वारा करीब 28 हजार करोड़ रुपये मांग इकोनॉमी में पैदा होगी.

क्या है फेस्टिवल एडवांस 

वित्त मंत्री ने बताया कि फेस्टिवल एडवांस स्कीम को फिर एक बार सिर्फ इसी साल के लिए शुरू किया जा रहा है. इसके तहत 10 हजार रुपये का एडवांस सभी तरह के कर्मचारियों को मिलेगा जिसे वे 10 किस्त में जमा कर सकते हैं. यह 31 मार्च 2021 तक उपलब्ध रहेगा. यह प्रीपेड रूपे कार्ड के रूप में दिया जाएगा. 

राज्यों को बिना ब्याज का लोन  

वित्त मंत्री ने कहा कि पूंजीगत बढ़ाने का अर्थव्यवस्था पर कई गुना असर होता है. इसका न सिर्फ मौजूदा जीडीपी बल्कि आगे की जीडीपी पर भी असर होता है. 50 साल का ब्याज रहित लोन राज्यों को 12 हजार करोड़ रुपये के पूंजीगत व्यय के लिए दिया जाएगा. 

इसका तीन हिस्सा होगा-2500 करोड़ रुपये पूर्वोत्तर, उत्तराखंड और हिमाचल को दिया जाएगा. इसके बाद 7500 करोड़ रुपये अन्य राज्यों को वित्त आयोग की सिफारिश के मुताबिक दिया जाएगा. तीसरा 2,000 करोड़ रुपये का हिस्सा उन राज्यों को मिलेगा जो कि आत्मनिर्भर के तहत ऐलान चार में से कम से कम 3 सुधार लागू करेंगे. यह पूरा लोन 31 मार्च 2021 से पहले दिया जाएगा. यह राज्यों को पहले से मिल रहे लोन के अतिरिक्त होगा. 

बजट में तय कैपिटल एक्सपेंडीचर बढ़ाया गया 

वित्त मंत्री ने बताया कि इस साल बजट में तय केंद्र सरकार के पूंजीगत व्यय के अलावा सरकार अतिरिक्त 25,000 करोड़ रुपये देगी. यह खासक सड़क, डिफेंस संबंधी बुनियादी ढांचा, जलापूर्ति, शहरी विकास, डिफेंस के देस में बने कैपिटल इक्विपमेंट के लिए होगा. 

अर्थव्यवस्था में सुधार 

हाल में अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर कई अच्छे संकेत सामने आये हैं. मैन्युफैक्चरिंग का आंकड़ा देने वाले पीएमआई में सुधार हुआ है, सर्विस सेक्टर के पीएमआई में सुधार हुआ है, बिजली की खपत बढ़ी है. इसलिए इस बात की संभावना है कि वित्त मंत्री अर्थव्यवस्था के हालात की जानकारी देश को दें और आगे सरकार क्या कदम उठा सकती है. इसकी भी जानकारी दें. कोरोना काल में केंद्र सरकार ने करीब 20 लाख करोड़ रुपये के बड़े राहत पैकेज का ऐलान किया था. 

संबंधित समाचार

Leave your comments


मै भी हूँ Journalist ×
मै भी हूँ Journalist