Breaking News

अरुण जेटली मुखर नेता थे जिन्होंने भारत में स्थायी योगदान दिया, उनका निधन बहुत दुखद है: PM मोदी अरुण जेटली के निधन पर ममता बनर्जी बोलीं-वह शानदार वकील और सांसद थे जेटली जी के असामयिक निधन से मन व्यथित है, भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे: तेजस्वी यादव अरुण जेटली के निधन के बाद हैदराबाद से दिल्ली लौट रहे हैं गृह मंत्री अमित शाह कांग्रेस पार्टी ने पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के निधन पर दुख जताया मेरे मित्र और सहयोगी अरुण जेटली जी के निधन से गहरा दुख हुआः राजनाथ सिंह अमित शाह बोले- अरुण जेटली जी के निधन से अत्यंत दुःखी हूं, उनका जाना मेरी व्यक्तिगत क्षति है 12.07 मिनट पर हुआ अरुण जेटली का निधन पिछले कई दिनों से एम्स में भर्ती थे अरुण जेटली लंबे समय से बिमार चल रहे थे अरुण जेटली पूर्व वित्त मंत्री अरूण जेटली का निधन पूर्व वित्त मंत्री अरूण जेटली का निधन एके -47 मामला- अनंत सिंह से दिल्ली के साकेत कोर्ट में किया सरेंडर विपक्ष के 11 नेताओं के साथ शनिवार को कश्मीर जाएंगे राहुल गांधी, लोगों से करेंगे बात फ्रांस की दो टूक, कोई तीसरा देश दखल न दे कश्मीर में महाराष्ट्र के भिवंडी में इमारत गिरी, दो की मौत, कई घायल दुनिया भर के देश मंदी का सामना कर रहे हैं- वित्त मंत्री दुनिया में मांग में कमी के आसार, भारत की अर्थव्यवस्था बेहतर हालत में: वित्त मंत्री

Home / Education

CBSE: कक्षा 10वीं में हो सकती है दो भागों में गणित की परीक्षा, छात्रों के लिए पास करना होगा आसान

nationfirst.in

15 Jan 2019 12:25 PM 

नई दिल्ली: केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) 10वीं कक्षा के गणित विषय के पेपर में बड़ा बदलाव करने जा रही है. इस बदलाव के पीछे बोर्ड की कोशिश है कि छात्र गणित विषय में अधिक फेल न हों. इसके तहत स्टूडेंट अब 10वीं में गणित विषय की परीक्षा दो भागों में देंगे. पहले भाग में बेसिक गणित की परीक्षा होगी जबकि दूसरे भाग में स्टैंडर्ड गणित की परीक्षा ली जाएगी.

गणित विषय की परीक्षा में यह बदलाव करने के लिए सीबीएसई इसके पेपर को दो भागों में बांटेगी. ऐसा करने के पीछे बोर्ड की कोशिश है कि छात्र तनाव लेकर पढ़ाई न करें. सीबीएसई ने इस बदलाव के लिए सर्कुलर जारी कर दिया है.

यह बदलाव साल 2020 से लागू होंगे. उस साल से सीबीएसई की परीक्षा में दो गणित होंगे. पहले गणित को बेसिक और दूसरे को स्टैंडर्ड का नाम दिया जाएगा. बेसिक गणित आसान होगा जबकि स्टैंडर्ड पहले वाले की तुलना में थोड़ा मुश्किल होगा. छात्र अगर परीक्षा में बेसिक गणित में फेल होते हैं तो वह कम्पार्टमेंटल एग्जाम देकर परीक्षा पास कर सकेंगे.

कम्पार्टमेंटल एग्जाम में छात्र गणित के जिस भाग में फेल हुए हैं उसकी परीक्षा दे सकेंगे. इसमें छात्रों के लिए बेहतर ये है कि अगर कोई छात्र स्टैंडर्ड गणित में फेल हुए हैं तो वह बेसिक गणित की परीक्षा देकर भी पास हो सकते हैं.

छात्रों के पास यह विकल्प होगा कि वह स्टैंडर्ड गणित में फेल होने के बाद या तो वह स्टैंडर्ड गणित की ही परीक्षा देकर पास हो सकते हैं अगर उन्हें यह पास करना मुश्किल लग रहा है तो वह बेसिक गणित का चुनाव कर सकते हैं.

संबंधित समाचार

Leave your comments


मै भी हूँ Journalist ×
मै भी हूँ Journalist